अयोध्या नगर निगम पर सबकी नजर, दांव पर CM योगी की प्रतिष्ठा

0
68

लखनऊ। पहली बार बने अयोध्या नगर निगम की सीट सीएम योगी के लिए प्रतिष्ठा की सीट बन गई है। योगी ने निकाय चुनाव के लिए पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत की थी। सीएम योगी के प्रचार करने की वजह से सभी विपक्षी पार्टी इस चुनाव में दिलचस्पी ज्यादा रही है। चुनाव प्रचार के दौरान सीएम योगी ने कहा था, ” लोगों को अयोध्या जाने से डर लगता है, मैं सीएम बनने के बाद 5 बार अयोध्या जा चुका हूं।” योगी के लिए अयोध्या क्यों जरुरी है….

सीनियर जर्नलिस्ट प्रदीप कपूर ने बताया, “बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से सीएम योगी पर प्रेशर बढ़ गया है। यूपी में निकाय चुनाव को लोकसभा चुनाव 2019 से पहले सेमीफाइनल माना जा रहा है। ऐसे में निकाय चुनाव के जरिये जनता के बीच कोई गलत मैसेज न जाए इसलिए सीएम योगी निकाय चुनाव जीतने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। वह मैसेज देना चाहते हैं कि वह अपने दम पर भी चुनाव जीता सकते हैं।”

प्रदीप कपूर कहते हैं, “यह पहली बार है कि निकाय चुनावों में भी राष्ट्रीय मुद्दे हावी रहे। पूरे चुनाव में किसी ने नाली, सड़क और पानी पर बात नहीं की है, जबकि नोटबंदी और अन्य बड़े मुद्दों को हवा दी गई।”
हिंदुत्व के एजेंडे को धार देने के लिए भी अयोध्या है जरूरी
वरिष्ठ पत्रकार अतुल चंद्रा के मुताबिक, ” मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भाजपा के पहले ऐसे सीएम हैं जो अयोध्या पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। योगी आदित्यनाथ भाजपा के हिन्दुत्व के मुद्दे को आगे बढ़ा रहे हैं और 2018 में राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया को शुरू करने पर जोर दे रहे हैं।”
“योगी आदित्यनाथ पहले ऐसे सीएम हैं जो सीएम रहते हुए अयोध्या पहुंचे थे और वहां पूजा की थी। कल्याण सिंह ने बतौर मुख्यमंत्री अयोध्या के विकास पर ध्यान दिया था पर योगी आदित्यनाथ से ज्यादा नहीं।”
अयोध्या को नगर निगम घोषित करने का आदेश यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दिया था जिसे योगी ने मुख्यमंत्री बनने के बाद लागू कर दिया। जबकि योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश सरकार के कई कामों में जांच के आदेश दिए हैं।
उन्होंने बताया कि-“अयोध्या में चुनाव प्रचार की शुरुआत का मुख्य उद्देश्य भाजपा के एजेंडे को आगे बढ़ाना है और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसी पर काम कर रहे हैं।”
17 सालों में किसी सीएम ने नहीं किया निकाय चुनाव का प्रचार
यूपी विधानसभा चुनाव में भगवा फहराने के बाद बीजेपी ने निकाय चुनाव जीतने का जिम्मा सीएम योगी आदित्यनाथ को दिया गया था। यही वजह है कि पिछले 17 सालों में पहली बार कोई सीएम ने निकाय चुनाव का प्रचार करने मैदान में उतरा है। सीएम योगी ने अयोध्या नगर निगम से प्रचार की शुरुआत की। 14 दिन में 32 रैलियों को सीएम योगी ने संबोधित किया।

अयोध्या नगर निगम के ये हैं उम्मीदवार
भाजपा- ऋषिकेश उपाध्याय
कांग्रेस- शैलेन्द्र मणि पांडेय
सपा- गुलशन बिंदु
बसपा- गिरीशचंद वर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here