बड़ीखबर: पाक में हुए उपचुनाव में जीत के बाद मरियम ने दिया बड़ा बयान, कहा-नवाज शरीफ आज भी है पीएम

0
24

पाकिस्तान के बर्खास्त प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बीमार पत्नी बेगम कुलसूम नवाज ने लाहौर उपचुनाव में शानदार जीत दर्ज की है. पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक कुलसुम को 59,413 वोट मिले, जबकि उनकी प्रतिद्वंदी यास्मीन राशिद को 46,145 वोट मिले. फिलहाल चुनाव परिणाम की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है. 28 जुलाई को पनामा लीक मामले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट द्वारा नवाज शरीफ को इस पद के अयोग्य करार दिया था, जिसके बाद उनकी नेशनल एसेंबली की सदस्यता खत्म हो गई थी और उनको प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ा था.

नवाज शरीफ के खिलाफ इस फैसले को न्यायिक तख्तापलट बताया जा रहा था. लाहौर की NA-120 सीट  पर जीत के बाद नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने समर्थकों को संबोधित करते हुए सुप्रीम कोर्ट समेत विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि जनता की कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को खारिज कर दिया है. पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट का फैसला कुछ भी हो, लेकिन नवाज शरीफ आज भी जनता के प्रधानमंत्री हैं और आगे भी रहेंगे. जनता ने उस फैसले पर फैसला दिया है, जिसके जरिए नवाज शरीफ को पद से हटा दिया गया था. चुनाव में पार्टी के कार्यकर्ताओं पर जुल्म ढहाए गए, लेकिन जीत हमारी ही हुई.

मरियम ने कहा कि नवाज शरीफ पर होने वाले वार को जनता ने अपने सीने पर ले लिया. नवाज शरीफ के खिलाफ सभी साजिश नाकाम हो गईं. वह आज भी लोकप्रिय नेता हैं. नवाज शरीफ की बेगम कुलसुम का लंदन में कैंसर का इलाज चल रहा है. उनकी गैर मौजूदगी में बेटी मरियम नवाज ने अपनी मां के चुनाव अभियान को संभाला. फिलहाल नवाज शरीफ भी अपनी पत्नी कुलसुम के साथ लंदन में ही हैं. मरियम ने नवाज शरीफ की ओर से समर्थकों का शुक्रिया किया.नवाज परिवार के लिए प्रतिष्ठा का सवाल था यह उपचुनाव

पाकिस्तान में न्यायिक तख्तापलट के बाद इस सीट पर चुनाव नवाज परिवार के लिए प्रतिष्ठा का सवाल था. हालांकि साल 2013 के मुलाबले इस बार वोटिंग प्रतिशत बेहद कम रहा. पाकिस्तान मुस्लिम लीम-नवाज की प्रत्याशी कुलसूम नवाज ने क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी की उम्मीदवार यास्मीन राशिद को जबरदस्त शिकस्त दी. नवाज शरीफ की पत्नी कुलसूम ने पहली बार चुनाव लड़ा है.

44 प्रत्याशी थे चुनाव मैदान में

लाहौर की NA-120 सीट को नवाज परिवार का गढ़ माना जाता है. इस चुनाव में कुल 44 प्रत्याशी मैदान में थे. इसके लिए 220 मतदाता केंद्र बनाए गए थे. इस उपचुनाव में जीत से पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज पार्टी के समर्थकों में जबरदस्त उत्साह है. नवाज शरीफ की बेटी ने अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा कि ये 60 हजार वोट 60 लाख वोटों के बराबर है.