प्याज की कीमतों ने निकाले किसानों के आंसू, 35% तक की हुई गिरावट

0
71

नई दिल्ली : देश के सबसे बड़े थोक प्याज के बाजार लासलगांव कृषि उत्पाद मार्केट कमेटी (एपीएमसी) में प्याज की कीमत में 35% तक गिरावट आई है। जब गुरुवार को आयकर विभाग ने कार्यालयों, गोदामों और सात प्याज के व्यापारियों के घरों में सर्वेक्षण किया, तब ये बात सामने आई। बता दें कि महाराष्ट्र के नासिक जिले में प्याज की कीमतों में गिरावत के कारण किसानों ने लासलगांव में नीलामी बंद कर दी है और अपने उत्पादन बेचना बंद कर दिया है। गुरुवार को थोक प्याज की कीमतों में 35% की गिरावट आई है। वहीं बुधवार को प्याज की कीमत 1,400 रुपये प्रति क्विंटल थी, तो गुरुवार को कीमत गिर कर 900 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है। जिसके कारण न्यूनतम कीमत 500 रुपये और अधिकतम कीमत 1331 रुपये प्रति क्विंटल थी।

वहीं लासलगांव एपीएमसी के अध्यक्ष जयदत्ता होलकर ने बताया कि जो सात व्यापारियों के यहों छापे मारे गए थे उसमें से दो व्यापारी लासलगांव के हैं। “इन व्यापारियों के पास बाजार में कुल आगमन का 30% हिस्सा खरीदने की क्षमता है। आईटी विभाग की कार्रवाई की वजह से प्याज व्यापारियों के बीच परेशानी पैदा हो रही है, जिससे थोक प्याज की कीमतों गिरावट आ रही है। साथ ही होलकर ने ये भी बताया कि, जो किसान इस बात को हजम नहीं कर पाए कि प्याज की किमतों में इतनी गिरावत हुई हैं। उसके बाद अब इतनी कम कीमत में वो ना तो प्याज की बोली लगाना चाहते हैं ना ही बेचना चाहते हैं।

 बता दें कि पिछले हफ्ते ही कृषि मंत्रालय ने आवंटन और थोक मूल्यों से संबंधित जिला प्रशासन से जानकारी मांगी थी। जिसमें एपीएमसी में पिछले 3 महीनें के आगमन और कीमतों के बारे में जानकारी दी गई थी।