अभी-अभी: मोदी जी अच्छा बोलते हैं, मगर किसी की बात नहीं सुनते- राहुल गांधी

0
62

नई दिल्ली : राहुल गांधी अमेरिका दौरे पर हैं। अमेरिका के बर्कले की जानी मानी यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में स्टूडेंट्स को संबोधित करते हुए राहुल ने पीएम की तारीफ तो वहीं उनपर जमकर हमला भी किया है। राहुल ने एक तरफ मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को सराहा है तो वहीं नोटबंदी का जमकर विरोध भी किया है।  

बता दें कि बर्कले में पीएम की तारीफ में राहुल ने कहा कि मोदी मेरे भी प्रधानमंत्री हैं, वह एक बेहतरीन वक्ता हैं, लेकिन वक्त होने के साथ साथ वो किसी की सुनते नहीं हैं। राहुल ने कहा कि 9 साल मैंने मनमोहन सिंह, चिंदबरम, जयराम नरेश के साथ मिलकर कश्मीर पर काम किया है। जब मैंने शुरू किया था तब कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था, 2013 में मैंने मनमोहन को गले लगाकर कहा कि आप की सबसे बड़ी सफलता कश्मीर में आतंकवाद को कम करना है। हमनें इस पर बड़े भाषण नहीं दिए, हमने छोटे लेवल पर लोगों से बात की।

राहुल ने कहा कि भारत में जॉब अपॉचुनिटी एक चुनौती है। भारत में छोटे-कारोबार में ही जॉब हैं। नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को चोट पहुंचाई, और हमारी GDP 2% तक गिर गई। नोटबंदी करते समय संसद को अंधेरे में रखा गया। इतना ही नहीं राहुल गांधी ने बर्कले में ये भी कहा कि वह पीएम पद की जिम्मेदारी लेने के लिए भी तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी में लोकतंत्र है अगर पार्टी कहेगी तो मैं जिम्मेदारी लूंगा। परिवारवाद पर हमारी पार्टी पर निशाना मत साधें, हमारा देश इसी तरह काम करता है। अखिलेश यादव, एमके स्टालिन, अभिषेक बच्चन कई तरह के उदाहरण हैं। इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता हूं। जो मायने रखता है कि क्या उस व्यक्ति में क्षमता है या नहीं। 

राहुल ने आगे कहा कि भारत में अभी जॉब क्रिएट करने की कमी है, भारत को जॉब क्रिएट करनी होगी। लेकिन हम चीन की नीति पर चलकर जॉब नहीं क्रिएट कर सकते हैं, हमें लोकतांत्रिक तरीके से ही ये करना होगा। राहुल गांधी ने कहा, ”जिन लोगों ने मेरी दादी को गोली मारी, मैं उन लोगों के साथ बैडमिंटन खेलता था। मुझे पता है कि हिंसा से क्या नुकसान हो सकता है। किसी भी व्यक्ति के खिलाफ हिंसा होनी गलत बात है।” उन्होंने कहा, ”जब आप अपने लोगों को खोते हो, तो आपको गहरी चोट लगती है। भारत के एक बड़ा देश है। भारत के पास आज कई राज्य हैं, कई प्राकृतिक संसाधन है। जो लोग सोच रहे थे कि भारत आगे नहीं बढ़ सकता है वो सभी गलत साबित हुए।