राम रहीम ने सौंपी गेस्ट लिस्ट, इस बार सबसे पहले दिया हनीप्रीत का नाम

0
63

रेप केस में 20 साल की जेल की सजा काट रहे राम रहीम ने जेल प्रशासन को 10 लोगों की लिस्ट सौंपी है, जो उससे मिलने के लिए आएंगे. इस लिस्ट में राम रहीम ने अपनी सबसे करीबी और कथित दत्तक पुत्री हनीप्रीत का नाम सबसे पहले लिखा है. इसके बाद उसने अपनी दोनों बेटियों और दामाद, बेटा और बहू और डेरे की देखभाल करने वाले कुछ प्रमुख लोगों का नाम दिया है. उसने फोन पर बात करने के लिए हनीप्रीत और चरणजीत का मोबाइल नंबर भी दिया है.

राम रहीम रोहतक को सुनारिया जेल में बंद है. यहां वह कैदी नंबर 8647 के नाम से जी रही है. उसे माली का काम दिया गया है, जिसके एवज में उसे 40 रुपये रोज मेहनताना मिलता है. जेल नियम के हिसाब से कैदी से मिलने के लिए आने वाले लोगों की लिस्ट पहले से ली जाती है. इसके तहत राम रहीम ने पहली लिस्ट में हनीप्रीत का नाम नहीं दिया था. इस पर हर कोई हैरान रह गया था. लेकिन इस बार हनीप्रीत का नाम दिया गया है, जो फिलहाल फरार बताई जा रही है.

कौन-कौन मिलेगा राम रहीम से?

हनीप्रीत- दत्तक पुत्री

जसमीत इंसा – बेटा

चरणप्रीत – बेटी

अमरप्रीत – बेटी

शान-ए-मीत – दामाद

रुह-ए-मीत – दामाद

जगजीत सिंह – कमेटी मेंबर

पी. आर. नैन – एक्स मैनेजर

धरम सिंह – करीबी सेवादार

गोबी राम – करीबी सेवादार

जानें, क्या कहता है जेल नियम?

जेल के नियम के मुताबिक कैदी अपनी मर्जी से ऐसे लोगों के नाम जेल प्रशासन को दे सकता है, जो उससे मिलने के लिए अधिकृत होंगे. कैदी की तरफ से दिए गए नामों के अलावा

किसी और को जेल के अंदर आकर कैदी से मिलने की इजाजत नहीं होगी. इससे पहले राम रहीम ने हनीप्रीत को अपने साथ जेल में रखने की मांग की थी. उसने अपनी पीठ दर्द का हवाला देते हुए कहा कि वह एक्यूप्रेशर की एक्सपर्ट है. हालांकि, जेल के अधिकारियों ने उसकी मांग को ठुकरा दिया था.

प्रियंका तनेजा बनी हनीप्रीत इंसा

हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है. हरियाणा के फतेहाबाद की रहने वाली प्रियंका तनेजा उर्फ हनीप्रीत और विश्वास गुप्ता की शादी 14 फरवरी, 1999 को डेरा प्रमुख राम रहीम ने ही कराई थी. हालांकि दोनों की शादी ज्यादा दिन नहीं चल सकी. कुछ समय बाद हनीप्रीत ने राम रहीम से शिकायत की कि ससुराल वाले दहेज के लिए परेशान कर रहे हैं. राम रहीम ने 2009 में हनीप्रीत को गोद ले लिया. उसकी दो बेटियां और एक बेटा है. उनके नाम अमनप्रीत, चमनप्रीत और जसमीत हैं.

राम रहीम की साये की तरह

साल 2011 में विश्वास गुप्ता ने हाईकोर्ट में केस दायर कर राम रहीम के कब्जे से हनीप्रीत को मुक्त कराने की मांग की थी. उसने राम रहीम और हनीप्रीत के बीच अवैध संबंध का भी आरोप लगाया था. हनीप्रीत उन चंद डेरा समर्थकों में से एक है जिसकी गिनती राम रहीम के करीबियों में होती है. वह डेरा के महत्वडपूर्ण फैसलों के साथ ही राम रहीम की फिल्मों को भी निर्देशित कर चुकी है. उसने ‘MSG: द वॉरियर लॉयन हार्ट’ का भी निर्देशन किया है. राम रहीम के साथ साये की तरह रहती रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here